जीएसटी बिल क्या है All Facts Of GST Bill

जीएसटी बिल क्या है, इससे आम जनता को क्या फायदे और नुकसान होंने इस बारे में इस पेज पर पूरी जानकारी दी गई है. हमने यहां सरल भाषा में सरकार द्वारा लगाए जाने वाले वस्तु एंव सेवा कर यानी Goods and Services Tax in Hindi के बारे में पूरी जानकारी दी वह इसके लाभ-हानियों आदि के बारे में पूरी जानकारी यहा सबसे पहले वह शुद्धता के साथ उपल्बध करवाई है। नीचे आप जी एस टी .. G.S.T के बारे में पूरी जानकारी पढ़ सकते है।

What is Goods and Service Tax – GST Bill
➡ आसान शब्दों में वस्तुओं यानी हमारे आम जीवन के उपयोग की चीजों जैसे कपड़ा, रोटी, मकान, वह आदि सामान जिससे हमारी रोज़मरा की जिन्दगी चलती है, इन पर सरकार द्वारा लगाए जाने वाला अतिरिक्त कर भार जिसे की हम Service Tax or Vat Tax, Excise Tax के नाम से जानते है। माल वह वस्तुओं की कीमत के अतिरिक्त लगाया गया मूल्य जो सरकार द्वारा लगया जाता है, ऐसे अतिरिक्त कर, जो की उपभोक्त द्वारा टैक्स के रूप में वस्तुओं पर अलग से लगता है, जो सरकार लेती है। उसे वस्तु सेवा कर कहा गया है।

जी एस टी बिल के नुकसान

➡ जी एस टी बिल के कई सारे नुकसान है, इससे जनता की आय और उनके रहन-सहन के स्तर पर धिरे-धिरे बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा। देश में बेरोज़गारी पहले से ही अधिक है, ऐसे में बेरोज़गारों जनता का जीवन-यापन कठिन हो जाएगा। इस तरह के अतिरिक्त कर का सीधा असर ग्रामिण क्षेत्रों वह कम आय वर्ग के लोगों की आय पर सिधा असर होगा।


➡ जैसा की हम जानते है, कि सरकार बेरोजगारों को रोजगार उपब्लध कराने में असमर्थ है। देश में कई युवा जो बहुत पढ़े-लिखें हैं, उनकों आसानी से नौकरी नहीं मिल पाती लेकिन देश में भ्रष्टाचार वह चोरी-चकारी वह गुड़ाग्रदी आदि करने वाले लोगों को आसानी से देश के सबसे उच्चे पद यानी राजनेता, मंत्री, शिक्षक आदि की कुर्सी मिल जाती यही लोग देश को खोखला करने का काम करते है।
➡ इससे भष्टाचार ओर अधिक बढे़गा, क्योंकि सरकारी टैक्स का कार्य सिमित लोगों द्वारा किया जाता है, अगर ये कुछ लोग बेईमान निकले तो पूरे देश की जनता को आर्थिक नुक्सान होगा। उसके साथ ही सरकार के पास ज़्यादा मात्रा में धन होने पर सरकार पाईवेट उद्योगों को आसानी से अपने इसारों से चलाऐगी।
➡  जी एस टी का सबसे ज्यादा असर सामान्य परिवारों पर पड़ेगा, क्योंकि जैसा कि हम जानते है अमीर लोग पैसों की ताकत से इससे निपट लेंगे, और सरकार द्वारा लगए जाने वाला कर व्यापारी वह दूकानदार जनता पर ही थोपेगी, क्योंकि ये माल लाते है, उसे ठीक रखने के लिए उस पर कुछ नौकर आदि भी लगाते है, बाद में व्यापारी बेचते समय सारे खर्च, जैसे माल रखने का किराया, नौकर, माल लाने चह लेजाने आदि का कियारा बिजली का बील आदि कई सारे खर्च और इन खर्चो पर सरकारी टैक्स ये सब जनता को ही देना होगा।
इस पेज़ पर जी एस टी के बारे में हम बाकि की जानकारी भी समय पर अॅपडेट कर देंगे, इसके साथ ही अगर आप इस पेज पर कुछ अलग से अपनी तरफ से जी एस टी की जानकारी सामिल करवाना चाहते है। तो हमें कमेंट में बताए वह अगर आपको पेज़ में कई पर भी त्रुटि दिखें, तो उसे भी बताएं ताकि हम जानकारी को बदल कर सही जानकारी आम-लोगों तक पहू़चा सकें। इसके साथ ही आप इस पेज़ को फेसबुक वह दूसरे सभी सॉशल साईटस पर शेयर जरूर करें, इससे सभी को जी एस टी की सही जानकारी आसानी से उपल्बध होगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ